पीरियड की ब्लडिंग से हैं परेशान तो प्रयोग करें ये दवाईयां

आजकल के समय में पीरियड्स को रोककर कुछ दिन आगे बढ़ाने का प्रचलन बहुत तेजी से बढ़ रहा है। घर में किसी प्रकार का फंक्शन होने पर या किसी प्रकार की पूजा त्यौहार आने पर महिलाएं अपने पीरियड्स को आगे बढ़ाने के लिए कुछ विशेष प्रकार की दवाओं का प्रयोग करती हैं। जिन्हें हम पीरियड ब्लीडिंग रोकने की टेबलेट नाम से जानते हैं। यह टैबलेट्स खाने के बाद कुछ समय के लिए पीरियड्स रुक जाते हैं। जिससे महिलाएं अपने जरूरी काम निपटाने के बाद पुनः  पीरियड्स को सामान्य रखती हैं। इन दवाओं का प्रयोग  पीरियड्स के समय अत्यधिक ब्लीडिंग होने पर किया जाता है जिससे ब्लीडिंग कम हो जाती है।

कभी-कभी ऐसा देखा जाता है कि महामारी के टाइम  महिलाओं में कभी-कभी अधिक रक्त स्राव होने लगता है जिससे उनके शरीर में खून की कमी हो जाती है अधिक रक्तस्राव को रोकने के लिए कुछ दवाओं का प्रयोग किया जाता है जिन्हें हम मुख्य रूप से ब्लीडिंग रोकने की दवा  के नाम से जानते हैं।

ब्लीडिंग रोकने की टेबलेट प्रयोग के कारण

महिलाओं में मुख्य रूप से इस टैबलेट का प्रयोग माहवारी के समय अत्यधिक ब्लीडिंग होने से रोकने के लिए किया जाता है। कभी-कभी महिलाओं में विभिन्न प्रकार की अनियमितता के कारण माहवारी के समय अत्यधिक ब्लीडिंग लगती है, जिससे शरीर में विभिन्न प्रकार की समस्याएं होने से सेहत खराब हो जाती है इन सब से बचने के लिए महिलाएं ब्लीडिंग कम करने वाली टेबलेट  का प्रयोग करती हैं, इससे अधिक रक्तस्राव की समस्या से बचा जा सकता है।

भारतीय समाज में आज भी माहवारी को अछूता माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि माहवारी के समय महिलाएं पूजा पाठ आदि शुभ अवसरों या शुभ कार्यों में भाग नहीं ले सकती हैं, क्योंकि माहवारी के समय महिलाएं अशुद्ध होती हैं। आज के इस समय में कुछ महिलाएं अपने घरों में अकेली होती है, इससे पूजा पाठ आदि का कार्य संभालना होता है  इसलिए महिलाएं इन सब से बचने के लिए माहवारी के पूर्व इन दवाओं का प्रयोग करती हैं जिससे वह अपने माहवारी को कुछ समय के लिए टाल देती हैं। 

पीरियड्स के टाइम पर महिलाओं में अत्यधिक रक्तस्राव होने के कारण निम्नलिखित हैं 

  • गर्भाशय के आंतरिक परत में गैर कैंसरकारी कोशिकाओं का विकसित होना।
  • गर्भाशय कोशिकाओं के छोटे-छोटे टुकड़े फैलोपियन ट्यूब अंडाशय या मूत्र मार्ग में विकसित होने के कारण।
  • पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम पीड़ित महिलाओं के गर्भाशय में गांठ ओं का बनना।
  • शरीर में खून का थक्का जमाने वाली विकृति का हो जाना। 
  • लीवर या गुर्दा में किसी प्रकार की बीमारी का होना।
  • गर्भाशय में कैंसर कोशिकाओं का विकसित होना।

ब्लीडिंग रोकने की दवा या उपचार 

अधिकतर मामलों में पीरियड के समय होने वाली है अत्यधिक ब्लीडिंग को रोकने के लिए दवा खाने की आवश्यकता नहीं होती किंतु यदि जरूरत से अधिक ब्लीडिंग हो रही है उसके लिए कुछ दवा बाजार में उपलब्ध है जिनका प्रयोग किसी डॉक्टर की सलाह से करके डॉक्टर द्वारा बताए गए दवा तथा मात्रा का प्रयोग करते हुए हो रही अधिक ब्लीडिंग जिसे भारी माहवारी भी कहते हैं को रोका जा सकता है।

 इसके अतिरिक्त यदि आप  अपने पीरियड को रोक कर किसी कारण आगे बढ़ाना चाहती हैं तो भी  आप इन दवाओं का प्रयोग कर सकती हैं, किंतु ध्यान रहे यह दवाई स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकती हैं इसलिए इन दवाओं का प्रयोग डॉक्टर की सलाह पर ही करें। यह दवाएं निम्नलिखित हैं-

  • ब्लीडिंग रोकने की टेबलेट
  • ब्लीडिंग रोकने की घरेलू विधियां 

ब्लीडिंग रोकने की टेबलेट

यदि महिलाओं में पीरियड के समय अधिक ब्लीडिंग हो रही है और यह ब्लीडिंग काफी लंबे समय तक हो रही है तो इससे बचने के लिए निम्नलिखित दवा का प्रयोग किया जा सकता है। इसके अलावा यदि आप अपने पीरियड तो कुछ समय के लिए आगे बढ़ाना चाहती हैं, तो भी इन दवाओं का प्रयोग तो भी कर सकती किंतु ध्यान देने योग्य बात यह है कि इन दवाओं के बहुत अधिक साइड इफेक्ट होते हैं जिन से बचने के लिए इन दवाओं का प्रयोग डॉक्टर की  इन दवाओं का प्रयोग सलाह पर ही करना चाहिए। जिससे आप स्वस्थ और सुरक्षित रहें। 

  • ट्रापिक 500 एमजी टैबलेट
  • Tranexamic acid
  • Texakind
  • Trenaxa 500mg
  • मिसोगोन 200mg टैबलेट
  • Tranostate 500 mg tablet
यह भी जाने : बवासीर का रामबाण आयुर्वेदिक इलाज तुरंत पाएं आराम

ट्रापिक 500 एमजी टैबलेट

ट्रापिक 500 एमजी टैबलेट डॉक्टर के पर्चे से मिलने वाली एक दवा है, जिसका प्रयोग  पीरियड के समय होने वाली हेवी ब्लीडिंग को रोकने के लिए किया जाता है। इस दवा का प्रयोग ब्लीडिंग  ब्लीडिंग होने के साथ-साथ अन्य विभिन्न प्रकार के बीमारियों के लिए किया जाता है। 

ट्रापिक 500 एमजी टैबलेट

ट्रापिक 500 एमजी टैबलेट उपयोग तथा फायदे

  • ट्रापिक 500 एमजी टैबलेट का प्रयोग पीरियड के समय अधिक ब्लीडिंग को रोकने के लिए किया जाता है।
  • ट्रापिक 500 एमजी टैबलेट  का प्रयोग गर्भावस्था में खून आने पर किया जाता है।
  • हीमोफीलिया से बचने के लिए ट्रापिक 500 एमजी टैबलेट का प्रयोग किया जाता है।
  • पीरियड को कुछ समय के लिए रोकने के लिए ट्रापिक 500 एमजी टैबलेट का प्रयोग किया जाता है।

पीरियड ब्लीडिंग रोकने की टेबलेट नाम Tranexamic acid

Tranexamic acid  टेबलेट का मुख्य कार्य खून के थक्का को बनाना होता है यह टैबलेट रक्त स्राव खून का थक्का बनाती है। जिससे अधिक मात्रा में रक्त स्राव नहीं होने पाता है, यदि महिलाओं में पीरियड के समय अधिक रक्त स्राव होता है तब Tranexamic acid टेबलेट का प्रयोग करते हैं। जिससे पीरियड्स के समय अधिक रक्तस्राव से बचा जा सकता है कुछ महिलाएं Tranexamic acid  टेबलेट का प्रयोग विभिन्न प्रकार की जरूरतों के कारण अपने पीरियड्स को आगे बढ़ाने के लिए भी करती हैं।

Tranexamic acid

Tranexamic acid टेबलेट के प्रयोग तथा फायदे  

  • Tranexamic acidटेबलेट का प्रयोग ब्लीडिंग को रोकने के लिए किया जाता है।
  •  गर्भावस्था के समय ब्लीडिंग होने पर Tranexamic acid  टेबलेट का प्रयोग किया जाता है।
  • पीरियड्स को कुछ समय के लिए आगे बढ़ाने के लिए  कुछ महिलाएं Tranexamic acid  टेबलेट का प्रयोग करती हैं।
  • खून की थक्का जमाने वाले  अनिमितता के कारण  खून का थक्का बनने के कारण होने वाली समस्या से बचने के लिए Tranexamic acid  टेबलेट का प्रयोग किया जाता है।

Texakind

पीरियड रोकने की टेबलेट का नाम Texakind है जिसको भारी मात्रा में रक्त स्राव होने के कारण प्रयोग की जाती है, जो बाजार में टेबलेट तथा इंजेक्शन के रूप में उपलब्ध है यदि शरीर से भारी मात्रा में रक्त स्राव हो रहा है तब डॉक्टर  द्वारा Texakind  टेबलेट का प्रयोग किया जाता है। यदि महिलाओं में पीरियड के समय अधिक ब्लीडिंग हो रहे हैं तब डॉक्टर द्वारा Texakind  टैबलेट का प्रयोग करने की सलाह दी जाती है इसकी मात्रा तथा समय डॉक्टर मरीज की शारीरिक संरचना के अनुसार बताते हैं अतः प्रयोग के पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले लें।

Texakind

Texakind  प्रयोग तथा फायदे

  • Texakind का प्रयोग भारी मात्रा में ब्लीडिंग को रोकने के लिए किया जाता है।
  •  कुछ महिलाओं द्वारा Texakind  का प्रयोग अपने पीरियड को आगे बढ़ाने के लिए भी किया जाता है।
  •  हीमोफीलिया के मरीजों के लिए भी कुछ डॉक्टरTexakind  का प्रयोग करते हैं।
  •  गर्भावस्था के दौरान होने वाले ब्लीडिंग से बचने के लिए कुछ महिला डॉक्टर इस दवा का प्रयोग करने के लिए सलाह देती है।

Trenaxa 500mg

Trenaxa 500mg दवा डॉक्टर की सलाह पर  किसी भी मेडिकल स्टोर पर मिलने वाली जिसका प्रयोग भारी मात्रा में होने वाली ब्लीडिंग को रोकने के लिए किया जाता है, यदि महिलाओं में पीरियड के समय अत्यधिक ब्लीडिंग होती है तो डॉक्टर Trenaxa 500mg  दवा का सेवन करने की सलाह देते हैं यह दवा टेबलेट तथा इंजेक्शन के रूप में उपलब्ध है। इस दवा का प्रयोग डॉक्टर के परामर्श के अनुसार ही करना चाहिए क्योंकि इन दवाओं का किडनी तथा जीव अकबर बहुत अधिक साइड इफेक्ट होता है कुछ महिलाओं द्वारा Trenaxa 500mg  टेबलेट का प्रयोग अपने पीरियड्स को रोकने के लिए भी किया जाता है।

Trenaxa 500mg

Trenaxa 500mg  दवा के उपयोग तथा फायदे

  • Trenaxa 500mg दवा का उपयोग पीरियड के समय होने वाले अत्यधिक ब्लीडिंग को रोकने के लिए किया जाता है।
  • गर्भाधान के दौरान यदि ब्लीडिंग होती है तब डॉक्टर Trenaxa 500mg  दवा के प्रयोग की सलाह देते हैं।
  • हीमोफीलिया के मरीजों के लिए डॉक्टर Trenaxa 500mg  दवा का प्रयोग करते हैं। 
  • कुछ महिलाओं द्वारा अपने पीरियड को आगे बढ़ाने के लिए Trenaxa 500mg  दवा का प्रयोग किया जाता है।

पीरियड रोकने की टेबलेट का नाम मिसोगोन 200mg 

मिसोगोन 200mg टैबलेटका प्रयोग मुख्य रूप से पीरियड के समय या डिलीवरी होने के पश्चात होने वाली बिल्डिंग करो किया जाता है। कुछ महिलाओं में शारीरिक अनियमितता के कारण पीरियड के समय अधिक मात्रा में ब्लीडिंग होने लगती है, जिससे शरीर में विभिन्न प्रकार की समस्याएं होने लगती है जिन समस्याओं से बचने के लिए महिला डॉक्टर मिसोगोन 200mg टैबलेट के प्रयोग की सलाह देती हैं जिससे पीरियड के समय होने वाली अत्यधिक बिल्डिंग में राहत मिलती है कुछ महिलाओं द्वारा मिसोगोन 200mg टैबलेटका प्रयोग अपने पीरियड को आगे बढ़ाने के लिए किया जाता है। 

मिसोगोन 200mg 

मिसोगोन 200mg टैबलेट का प्रयोग तथा फायदे 

  • मिसोगोन 200mg टैबलेटका प्रयोग हेवी ब्लीडिंग को रोकने के लिए किया जाता है।
  • डिलीवरी के बाद होने वाली ब्लीडिंग से बचने के लिए महिला डॉक्टर मिसोगोन 200mg टैबलेट का प्रयोग  करने की सलाह देती है।
  • कुछ डॉक्टर द्वारा अबॉर्शन के लिए मिसोगोन 200mg टैबलेट का प्रयोग करने की सलाह दी जाती है।
  • पेट में अल्सर की बीमारी के लिए मिसोगोन 200mg टैबलेट का प्रयोग किया जाता है। 
  • पीरियड को आगे बढ़ाने के लिए मिसोगोन 200mg टैबलेट का प्रयोग किया जाता है।

पीरियड ब्लीडिंग रोकने की टेबलेट नाम Tranostate 500mg

Tranostate 500mg टैबलेट का प्रयोग पीरियड के समय होने वाली अत्यधिक मात्रा में ब्लीडिंग के लिए किया जाता है। यह दवा रक्त परिसंचरण विकारों और वेसल्स को संकुचित करने में सुधार करती है। यह वैस्कुलर स्मूथ मसल्स को रोकने के लिए कैल्शियम चैनल को भी ब्लॉक करती है। महिलाओं द्वारा Tranostate 500mg टैबलेट का प्रयोग पीरियड को कुछ दिनों के लिए रोकने के लिए किया जाता है। इस दवा का प्रयोग विभिन्न प्रकार की बीमारियों के लिए किया जाता है इस दवा के प्रयोग से पहले किसी महिला डॉक्टर की सलाह अवश्य ले लेनी चाहिए जिससे दवा के साइड इफेक्ट से बचा जा सके।

Tranostate 500mg

Tranostate 500mg टैबलेट का प्रयोग तथा फायदे

  • Tranostate 500mg टैबलेट का प्रयोग भारी मात्रा में होने वाले ब्लीडिंग को रोकने के लिए किया जाता है।
  • गर्भावस्था के दौरान होने वाले ब्लीडिंग को रोकने के लिए Tranostate 500mg टैबलेट का प्रयोग किया जाता है।
  • हीमोफीलिया के मरीजों Tranostate 500mg टैबलेट का प्रयोग  करने की सलाह दी जाती है।
  • पीरियड्स में होने वाली अनियमितता को रोकने के लिए Tranostate 500mg टैबलेट का प्रयोग किया जाता है।
  • कुछ महिलाओं द्वारा अपने पीरियड्स को आगे बढ़ाने  के लिए Tranostate 500mg टैबलेट का प्रयोग  किया जाता है।
यह भी देखें : पेशाब में जलन की होम्योपैथिक दवा – कुछ घरेलू इलाज

ब्लीडिंग रोकने की घरेलू विधियां

कुछ महिलाएं  अपने घरों से बाहर नहीं निकल पाती है जिसके कारण से बाजार में उपलब्ध दवाइयां का प्रयोग नहीं कर पातीकभी-कभी महिलाओं ने पीरियड के समय अधिक मात्रा में रक्तस्राव होने लगता है। बाजार में उपलब्ध दवाइयां तक पहुंचने के कारण  यह महिलाएं अत्यधिक ब्लीडिंग के कारण विभिन्न प्रकार की समस्याओं का शिकार हो जाते हैं तथा एनीमिया जैसे  रोगों का शिकार हो जाती हैं। जिससे इन्हें विभिन्न प्रकार की शारीरिक समस्याएं उठाने पड़ते हैं, इन सब से बचने के लिए आज हम आपको घर में उपलब्ध है आयुर्वेदिक खाद्य पदार्थों द्वारा पीरियड के समय होने वाले रक्तस्राव को  रोकने की जानकारी देंगे। यह खाद्य पदार्थ निम्नलिखित

  • मूली 
  • इमली 
  • अदरक 
  • पपीता 

मूली 

मूली 

मूली में ऐसे तत्व मौजूद रहते हैं जो बड़ी आसानी से  खून के थक्के को जमाते हैं  पीरियड के समय होने वाले अत्यधिक ब्लीडिंग को रोकने के लिए  पीरियड्स के समय मूली के पत्तेदार सब्जी का प्रयोग  करना चाहिए इसमें उपस्थित कैल्शियम की मात्रा अत्यधिक रक्तस्राव को रोकती है।  जिससे पीरियड में होने वाले  हैवी ब्लीडिंग से बचा जा सकता है।

इमली

इमली

इमली अत्यधिक रक्तस्राव को रोकने में मदद करती है इमली में उपस्थित फाइबर और एंटीऑक्सीडेंट खून के जमाव में सहायक होते हैं इमली के प्रयोग से होने वाली ब्लीडिंग को रोका जा सकता है। मासिक धर्म के दौरान यदि आपको लगता है कि ब्लीडिंग बहुत ज्यादा हो रही है तो इमली को खा लेना चाहिए जिससे कुछ समय पश्चात ब्लीडिंग कम हो जाती है।

अदरक

अदरक

जिन महिलाओं में पीरियड के समय बहुत अधिक ब्लीडिंग होती  उनको हेवी ब्लीडिंग से बचने के लिए अदरक को पानी में उबालना चाहिए उबालने के पश्चात में  उसमें शहद या  चीनी मिलाकर पर पीरियड के समय दैनिक रूप से प्रयोग करना चाहिए जिस से होने वाली अत्यधिक रक्तस्राव की मात्रा कम हो जाएगी और होने वाली समस्याओं से आप बची रहेगी। 

पपीता

पपीता

पपीता विभिन्न प्रकार के औषधीय गुणों से भरपूर होता है पपीता को अपने विभिन्न प्रकार की बीमारियों को ठीक करने के गुण पाए जाते हैं कच्चा पपीता का प्रयोग माहवारी के समय होने वाले हैं अत्यधिक ब्लीडिंग रोकने की दवा के लिए किया जाता है जिन महिलाओं में  पीरियड के समय अधिक ब्लीडिंग होती है उनको कच्चे पपीते का प्रयोग करना चाहिए।

इन दवाईयों के साइड-इफेक्ट

इन दवाओं के दैनिक प्रयोग से बचना चाहिए क्योंकि शरीर पर इसके कुछ निम्नलिखित साइड इफेक्ट भी हो जाते हैं

  • पीरियड्स अनियमित हो जाती है 
  • इसे खाने के बाद अगले महीने के पीरियड्स में बहुत ज्यादा ब्लीडिंग होने लगती है। 
  • इनके प्रयोग से गांठ या कैंसर हो सकता है।
  • ब्रैस्ट में भारीपन, सूजन या गांठ हो सकती है।
  • महिलाओं में सफ़ेद पानी की शिकायत हो सकती है।
  • बहुत अधिक थकान महशूस होना।
  • शरीर में अनचाहे बालों की वृद्धि होना।
  • लिवर की समस्या हो जाना।
  • कब्ज या दस्त लगना।
  • सांस लेने में अत्यधिक तकलीफ होती है।
  • बराबर नींद न आना। 
  • हाथ-पैरों में सूजन आना।

भारतीय समाज में आज भी महिलाओं के मासिकधर्म को अशुध्द माना जाता है इस समय महिलाओं को किसी भी पूजा पाठ यह सामाजिक कार्यक्रम में शामिल होने से वंचित रखा जाता है। इन सब से बचने के लिए कुछ महिलाएं इसी पूजा पाठ या कार्यक्रम होने से पहले यदि पीरियड की संभावना होती है तो वह पीरियड ब्लीडिंग रोकने की टेबलेट का प्रयोग करती है उनकी जानकारी के लिए आज हमने  कुछ पीरियड ब्लीडिंग रोकने की टेबलेट नाम  तथा उनके बारे में जानकारी दी है इससे महिलाएं डॉक्टर की सलाह पर इन दवाओं का प्रयोग कर सकते हैं इन दवाओं का प्रयोग अन्य कारणों से पीरियड्स के समय होने वाली अधिक मात्रा में ब्लीडिंग को रोकने के लिए भी किया जाता है  दवाओं का प्रयोग महिलाओं को किसी महिला डॉक्टर की सलाह पर ही करना चाहिए जिससे वे शरीर पर होने वाले अन्य साइड इफेक्ट से बची रह सकती हैं। 

लोगों द्वारा पूछे जाने वाले कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न

पीरियड्स रोकने की मेडिसिन नाम कौन सी है ?

उपर्युक्त लेख में हमने विभिन्न प्रकार की पीरियड को रोकने के लिए टेबलेट के बारे में बताया है यदि आपको पीरियड रोकने की टेबलेट की जरूरत है तो उपर्युक्त लेख  के अध्ययन के पश्चात बताई गई दवाओं का प्रयोग करके आप अपने पीरियड को कुछ समय के लिए रोक सकती है।

मासिक धर्म के रक्तस्राव को तुरंत कैसे रोकें?

मासिक धर्म के समय यदि अत्यधिक मात्रा में रक्त स्राव हो रहा है तो उपर्युक्त लेख में बताई गई विभिन्न प्रकार की दवाओं में से किसी ब्लीडिंग रोकने की दवा का उपयोग करके हो रही समस्या से निजात पा सकते हैं दवा के प्रयोग के पहले महिला डॉक्टर से परामर्श अवश्य ले लेंगे जिससे शरीर पर होने वाले साइड इफेक्ट से बचा जा सके। 

ब्लीडिंग रोकने के लिए क्या खाना चाहिए?

उपर्युक्त लेख में ब्लीडिंग को रोकने के लिए विभिन्न प्रकार की दवाओं का वर्णन किया गया है के अध्ययन के पश्चात बताए गए दवाओं के उपयोग से होने वाली अत्यधिक ब्लीडिंग को रोका जा सकता है। इन दवाओं को पीरियड ब्लीडिंग रोकने की टेबलेट नाम से जाना जाता है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.