महिला बवासीर के लक्षण | महिलाओं में बहुत दर्दनाक होती है बवासीर

बावासीर आज के समय में एक आम बीमारी हो गई है जो लगभग है दूसरे व्यक्ति को हो जाती है क्योंकि हमारे खाने पीने की वस्तुओं तथा खाद्य पदार्थ में परिवर्तन हुआ है। जिसके कारण  हमारी पाचन क्रिया प्रभावित हुई है। पाचन क्रिया के प्रभावित होने के कारण पेट में विभिन्न प्रकार की समस्या उत्पन्न हो जाती हैं जिनमें से कब्ज एक अहम समस्या बन गई है। बवासीर होने का मुख्य कारण पाचन क्रिया के प्रभाव के कारण कब्ज हो जाने से होती है कब्ज के कारण हमारे शरीर से मल त्यागने में समस्या होने लगती है।

मल त्याग के समय अत्यधिक जोर लगाने पर के कारण हमारे गुदाद्वार में सूजन हो जाती है जिसके कारण कुछ समय पश्चात बवासीर की समस्या उत्पन्न हो जाती है महिला तथा पुरुषों में बवासीर के सामान्य लक्षण पाए जाते हैं। किंतु महिलाओं में महिला बवासीर के लक्षण कुछ अलग से होते हैं जिनकी जानकारी हम आज आपको इस लेख में प्रदान करेंगे।

महिला बवासीर के लक्षण

बवासीर होने के कारण

  • जंक तथा फास्ट फूड का अधिक सेवन करना।
  • अधिक तीखा खाना।
  • कब्ज होना।
  • हैवी वेट उठाना। 
  • प्रेग्नेंसी के कारण।
  • एक्सरसाइज कम करना। 
  • स्ट्रेस के कारण।
  • गुदा सेक्स करने से।

जंक तथा फास्ट फूड का अधिक सेवन करना

जंक तथा फास्ट फूड

अधिकतर महिलाएं जंक फूड तथा फास्ट फूड की  शौकीन होती हैं जिसके कारण महिलाएं जंक फूड तथा फास्ट फूड का प्रयोग अधिक मात्रा में करती हैं जिससे महिलाओं की पाचन शक्ति खराब हो जाती है। पाचन शक्ति खराब होने के कारण महिलाओं में कब्ज की समस्या हो जाती है कब्ज की समस्या के साथ-साथ पेट ना साफ होने की समस्या भी होने लगती है जिसके कारण गुदा के आसपास से तथा घाव हो जाते हैं जो बवासीर के लक्षण होते हैं। जंक फूड तथा फास्ट फूड अधिक मात्रा के सेवन के कारण महिलाओं में बवासीर हो जाती हैं।

अधिक तीखा खाना

अधिक तीखा खाना

अधिक तीखा खाना खाने से हमें अत्यधिक  स्वाद प्राप्त होता है  आजकल के लोग अत्यधिक मसालेदार तथा तीखा भोजन पसंद करते हैं जो कि उन्हें अधिक स्वादिष्ट लगता है। अधिक स्वादिष्ट खाना खाने के चक्कर में वे अपनी पाचन क्रिया खराब कर लेते हैं। पाचन क्रिया खराब हो जाने के कारण हमें कब्ज जैसी समस्याएं हो जाती हैं। जिसके कारण पेट सही से साफ नहीं होता है महिलाएं स्वादिष्ट खाना खाने की अधिक शौकीन होती है इसलिए पूरा दिन रसोई में मसालेदार चीजें बनाती रहती हैं और खाती रहती हैं जिसके कारण पाचन क्रिया खराब हो जाने से बवासीर की समस्या होने लगती है।

कब्ज होना

कब्ज होना

बवासीर होने का मुख्य कारण कब्ज होता है कब्ज के कारण हमारे पेट की सफाई सही सही नहीं होती है जिससे हम मल त्याग के समय गुदा क्षेत्र में अत्यधिक जोर डालते हैं जिसके कारण गुदा में सूजन आ जाती है, और उस समय पश्चात बवासीर की समस्या होने लगती है। आज के समय में सभी महिला तथा पुरुष वसा युक्त भोजन के शौकीन होते हैं जिनमें महिलाएं वसा युक्त भोजन तथा फास्ट फूड की सबसे अधिक मात्रा में पाई जाती हैं जो महिलाएं अधिक मात्रा में फास्ट फूड तथा वसायुक्त भोजन का प्रयोग करती हैं। उनको अक्सर कब्ज की समस्या हो जाती है। कब्ज की समस्या होने के कारण महिलाओं में बवासीर हो जाती है। 

हैवी वेट उठाना 

हैवी वेट उठाना 

जो पुरुष तथा महिलाएं घरेलू कार्यों में या अन्य स्थानों पर कार्य करते हुए भारी बोझ उठाने का कार्य करते हैं, उनको अक्सर बवासीर जैसी समस्याएं हो जाती है। भारी बोझ उठाने के कारण शरीर की मांसपेशियों में खिंचाव पड़ता है जिसके कारण बवासीर जैसी समस्या होने लगती है, जो महिलाएं घरों में भारी बोझ उठाने का कार्य करती हैं उनको बवासीर की समस्या कुछ समय पश्चात होने लगती है।

प्रेग्नेंसी के कारण

प्रेग्नेंसी के कारण

गर्भावस्था के दौरान महिलाओं में बवासीर की समस्या देखने को मिलती है गर्भावस्था के पश्चात महिलाओं में बवासीर हो जाती है क्योंकि गर्भावस्था के दौरान यूट्रस का आकार बढ़ जाता है और रक्त संचार में वृद्धि होने लगती है। इस वजह से नसों में आसानी से सूजन आ जाती है। इसके अलावा प्रोजेस्टेरोन नाम के हार्मोन में वृद्धि होने से गर्भवती महिला को कब्ज हो सकता है। डिलीवरी के पश्चात महिलाओं में बड़ी हुई त्वचा की सिकुडती जिसके कारण गुदाद्वार के आसपास छोटे-छोटे मस्से जैसी  संरचनाएं बन जाती हैं जो बवासीर के मुख्य लक्षण होते हैं जिनके कारण महिलाओं को मल त्यागने में दिक्कत होती है। 

एक्सरसाइज कम करना 

एक्सरसाइज कम करना 

एक्सरसाइज कम करने के कारण हमारा शरीर एक्टिव नहीं रहता है जिसके कारण  जिन पदार्थों का सेवन हम खाद्य पदार्थ के रूप में करते हैं, वह पच नहीं पाते हैं। खाद पदार्थों का सामान्य रूप से पाचन ना होने के कारण मल त्याग के समय समस्या होती है। जिसके कारण मल त्याग में बहुत तेज जोर लगाना पड़ता है, जो लगाने के कारण मलद्वार के आसपास की कोशिकाओं में सूजन आ जाती है, जिसके कारण छोटे-छोटे मस्से हो जाते हैं और बवासीर की समस्या हो जाती है बवासीर की समस्या से बचने के लिए दैनिक रूप से एक्सरसाइज तथा व्यायाम करना चाहिए।

स्ट्रेस के कारण

स्ट्रेस के कारण

अधिक मात्रा में स्ट्रेस लेने के कारण हमारे शरीर में स्ट्रेस हार्मोन का श्रावण अधिक मात्रा में होने लगता है स्ट्रेस हार्मोन को शांत करने के लिए हमारे शरीर को अत्यधिक शुगर की आवश्यकता होती है।

जिसके कारण हमें मीठा खाने के मन होने लगता है  और हम अधिक मात्रा में मीठी वस्तुओं का सेवन करने लगते हैं जिससे हमारे शरीर में शुगर की मात्रा बढ़ जाती है, और हमारे शरीर में विभिन्न प्रकार की समस्याएं होने लगती हैं। जिनके कारण बाबासीर जैसे समस्या ही हो जाती है, जो महिलाएं अत्यधिक मानसिक तनाव लेती हैं, उनको बवासीर होने का खतरा अधिक रहता है अतः बवासीर से बचने के लिए मानसिक तनाव नहीं लेना चाहिए।

गुदा सेक्स करने से

गुदा सेक्स करने से

कुछ महिलाएं अपनी सेक्स इच्छा को शांत करने के लिए गुदा सेक्स को प्रयोग में लाते हैं। गुदा सेक्स करने के कारण महिलाओं को गुदा के आसपास की मांसपेशियों में सूजन आ जाती है, जिसके कारण उन्हें मत त्यागने में समस्या होने लगती है  इस समस्या के कारण महिलाओं में बवासीर की समस्या हो जाती है  इसलिए बाबासीर की समस्या से बचने के लिए गुदा सेक्स नहीं करना चाहिए। 

महिला बवासीर के लक्षण

बवासीर कब्ज की समस्या के कारण होने वाली बीमारी है जो पुरुष तथा महिलाओं में सामान्य रूप से होती है। किंतु महिलाओं में कुछ विशेष लक्षणों के कारण  देखने को मिलते हैं जिनके कारण महिलाओं को बवासीर अधिक मात्रा में होती है। बवासीर के निम्नलिखित लक्षण होते हैं जो महिला तथा पुरुष मैं पाया जाते हैं इसके अलावा कुछ ऐसे लक्षण भी होते हैं जो केवल महिलाओं में ही दिखाई देते हैं यह लक्षण निम्न लिखित हैं।

  • गुदा क्षेत्र में खुजली होना।
  • इंफ्लेमेशन होना।
  • गुदा क्षेत्र में दर्द होना।
  • गुदा क्षेत्र में सूजन।
  • खून बहना।
  • मल त्याग के समय दर्द होना।
  • गुदा क्षेत्र में गाँठ बन जाना।

गुदा क्षेत्र में खुजली होना

गुदा क्षेत्र में खुजली होना

 

महिलाओं में बवासीर होने के कारण गुदा क्षेत्र में खुजली होने लगती है जिसके कारण विभिन्न प्रकार की समस्याएं होती हैं गुदा क्षेत्र में सूजन के कारण होने वाली खुजली से बचने के लिए महिला बवासीर की दवा का प्रयोग करना चाहिए, जो महिलाओं में होने वाली  बावासीर की इस समस्या से राहत देती है, गुदा क्षेत्र की खुजली तथा बवासीर से बचने के लिए महिलाओं को गुदा सेक्स नहीं करना चाहिए साथ के साथ पेट साफ करने वाले खाद्य पदार्थ का सेवन करना चाहिए ।

इंफ्लेमेशन होना 

हमारे शरीर में होने वाली एलर्जी खुजली दाद जलन दर्द आदि हमारे शरीर में इन्फ्लेमेशन की मुख्य समस्याएं होती हैं महिलाओं में इंफ्लेमेशन होने के कारण बवासीर की समस्या देखी गई है। बवासीर में गुदा एवं मलाशय के निचले भाग की रक्तवाहिनियों में सूजन आ जाती है।

ऐसा लम्बे समय तक कब्ज और शौच में अत्यधिक समय तक बैठे रहने से होता है। इसके अलावा मोटापा या गर्भवती महिलाओं में भी यह होने का खतरा रहता है। इसमें गुदा या मलाशय में मस्से बन जाते हैं, जिनके फूटने पर इनसे खून निकलता है, और दर्द होता है। यह सभी बवासीर की समस्या से उत्पन्न होते हैं उपरोक्त कारणों से हमारे शरीर में बवासीर की समस्या हो जाती है।

गुदा क्षेत्र में दर्द होना

बवासीर के कारण हमारे गुदा क्षेत्र में बहुत अधिक दर्द होने लगता है क्योंकि मलद्वार के आसपास की मांसपेशियां मैं छोटी-छोटी गाठे हो जाती हैं जिसके कारण कुछ समय पश्चात मल त्यागने के समय उनसे खून का रिसाव होने लगता है खून के रिसाव के कारण गुदा क्षेत्र के आसपास घाव हो जाते हैं घाव के कारण अत्यधिक दर्द होने लगता है।

गुदा क्षेत्र में सूजन

बवासीर का प्राथमिक लक्षण गुदा क्षेत्र में सूजन होती है जब बवासीर की शुरुआत होती है तो कब्ज के कारण हमारा पेट सही से साफ नहीं होता है जिसके कारण हमें विभिन्न प्रकार की समस्याएं होने लगती हैं। पेट साफ करने के लिए हम घंटों वॉशरूम में बैठे रहते हैं, और तेजी से जोर लगाते रहते हैं अधिक तेजी से जोर लगाने के कारण गुदा क्षेत्र में सूजन हो जाती है जोकि बाबासीर का प्राथमिक लक्षण दिखाई देता है।

खून बहना

बवासीर के कारण हमारे गुदा क्षेत्र के चारों तरफ सूजन हो जाती है सूजन के कारण प्रभावित क्षेत्र के चारों तरफ की मांसपेशियों में गांठों जैसी संरचना हो जाती है। जिसके कारण मल त्याग के समय  खून की बूंदे दिखाई देती हैं मल त्यागते समय यह गांठें फूट जाती है जिसके कारण उनका श्रावण होने लगता है बाबासीर का मुख्य लक्षण खून का बहना भी है।

खून बहना

मल त्याग के समय दर्द होना

बवासीर की समस्या से पीड़ित महिलाओं को मल त्यागने के समय गुदा क्षेत्र में दर्द होता है जिसके कारण मल त्याग के समय बहुत समस्याएं होती हैं बवासीर समस्या से पीड़ित व्यक्तियों तथा महिलाओं में गुदा क्षेत्र में सूजन हो जाती है, जिसके कारण मल त्याग के समय बहुत अधिक दर्द होता है तथा जलन होती है। 

गुदा क्षेत्र में गाँठ बन जाना

बाबासीर से पीड़ित महिलाओं में गुदा क्षेत्र के आसपास की मांस पेशियों तथा रक्त तंत्रिकाओं में गांठ पड़ जाती हैं जिसके कारण वे मस्सों का रूप ले लेती हैं मल त्याग के समय इन मस्सों से रक्तश्राव होने लगता है जिसके कारण असहनीय पीड़ा तथा जलन होती है। 

महिला बवासीर की दवा

महिलाओं में होने वाली बवासीर के कारण महिलाओं को विभिन्न प्रकार की समस्याएं हो जाती हैं जिनके कारण प्रभावित क्षेत्र में दर्द तथा जलन का अनुभव होता है महिलाओं में बवासीर होने के विभिन्न कार्य होते हैं, जो कब्ज का कारण बनते हैं जिनके कारण बवासीर जैसी बीमारी का जन्म होता है कब्ज के अलावा महिलाओं में कुछ अन्य लक्षण भी पाए जाते हैं जो बवासीर का कारण बनते हैं बवासीर की समस्या से बचने के लिए महिलाएं निम्नलिखित पदार्थों का प्रयोग दवा के रूप में करती हैं।

  • मूली और हल्दी।
  • हल्दी और एलोवेरा जेल।
  • देसी घी और हल्दी है बवासीर का रामबाण इलाज
  • हल्दी, बकरी का दूध। 
  • नहाने के टब में हल्दी का उपाय।
  • हल्दी और नारियल तेल।
  • त्रिफला चूर्ण 

निष्कर्ष

महिला तथा पुरुषों में बवासीर के सामान्य लक्षण होते हैं किंतु कुछ लक्षण ऐसे होते हैं जो केवल महिलाओं में ही होते हैं और जिनके कारण महिलाओं में बवासीर होती है बवासीर से बचने के लिए महिलाओं को उपरोक्त बताए गए कारणों से बचना चाहिए जिसे बवासीर जैसी समस्या से आप दूर रहेंगी उपरोक्त लेख में बवासीर के कारण तथा लक्षण बताए गए हैं जिनके आ रहा है महिलाएं महिला बवासीर के लक्षण जान सकती हैं और बवासीर की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं।

FAQ

महिलाओं में बवासीर कैसे होता है?

महिला तथा पुरुषों में बवासीर होने के समान लक्षण होते हैं किन्तु महिलाओं में बवासीर के कुछ लक्षण अलग से हो जाते हैं ठीक से शौच न होना और फाइबर युक्त भोजन का सेवन न करना भी बवासीर का कारण हो सकता है।. महिलाओं में प्रसव के दौरान गुदा क्षेत्र पर अधिक दबाव पड़ने से भी बवासीर का खतरा रहता है जिससे महिलाएं बवासीर से अधिक परेशान होती रहती जिसमे गुदा मैथुन मुख्य है।    

बवासीर जड़ से खत्म कैसे होता है? 

बवासीर की समस्या को जड़ से खत्म करने के लिए सबसे पहले पेट की समस्या को जड़ से खत्म करना होगा पेट में होने वाली समस्याओं जैसे कब्ज अपच आदि के कारण बवासीर की समस्या होती है बवासीर की समस्या खत्म करने के लिए हल्दी एलोवेरा हल्दी शहद तथा दूध का प्रयोग किया जाता है जिससे पाचन क्रिया सही रहती है तथा आवश्यक समस्या कुछ समय पश्चात ठीक हो जाती है। 

औरत पर बवासीर कहाँ स्थित होते हैं?

औरत का पुरुष दोनों में बवासीर का असर गुदा क्षेत्र के आस पास ही रहता है महिलाओं में बवासीर का असर किस अन्य क्षेत्र में नहीं होता है इसलिए बवासीर में पुरुषों तथा महिलाओं में होने के लक्षण समान होते हैं किंतु महिलाओं के कुछ कारण अलग होते हैं जिनके कारण बवासीर की समस्या होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *